Category: Manipal Poetry Writing Month

National Poetry Writing Month, Day 5: शायद इस दीवाली

शायद इस दीवाली करूँगा याद मैं वो झिलमिल गलियाँ, पटाखों का शोर और रौशनी की लड़ियाँ, रहेगी कसक, लेकिन फर्ज़ से ना मुँह मोड़ पाऊँगा शायद इस दिवाली मैं घर...

My Diary, Your Pages

मेरी अर्ज़ियाँ भी सुनती है,मेरी शिकायतें भी सुनती है.. मेरे जज़्बात भी समझती है,मेरी खामोशी भी पढ़ती है.. इस फरेब की दुनियाँ में मेरी डायरी एक हमदर्द का किरदार निभाती...

Three

Between three tablespoons of sickly bright orange tonic, (administered thrice daily; no more, no less) bottled in vials shaped unmistakably like grandpa’s third eye (over which eyelashes locked themselves in...

Starry Night

Beneath your dark eyes, there must be light Just like above the darkness, there’s a starry night I’m not sure if either is real, Yet my eyes keep searching, my...